CA Full Form || CA क्या है? कैसे करें पूरी जानकारी हिंदी में

CA Full Form: आज के दौर में CA एक ऐसा सेक्टर है जहाँ लोग जाना बहुत पसंद करते है। बारहवीं कक्षा पास करने के बाद विद्यार्थियों के लिए भविष्य में CA की पढाई करने का मार्ग खुल जाता है। हर साल लाखों छात्र बारहवीं की परीक्षा पास करने के बाद CA की पढाई करना शुरू करते है। आज हम आपको सीए से जुड़े हर सवाल का उत्तर देने वाले है। तो अगर आप भी सीए की पढाई करना चाहते है तो इसे अंत तक ज़रूर पढ़े। 

सीए फुल फॉर्मCA Full Form 

सीए का फुल फॉर्म क्या है, Full Form of CA, What is the Full Form of CA, CA का Full Form क्या हैं, Full Form of CA in Hindi, CA का पूरा नाम और हिंदी में क्या अर्थ होता है। अगर आपके मन में भी ऐसे सवाल आ रहे है तो आपको बता दें की CA का फुल फॉर्म होता है चार्टर्ड अकाउंटेंट ( Chartered Accountant ) होता है। इसे हिंदी में मुनीम भी कहा जाता है। 

सीए क्या है?—CA Kya Hai in Hindi 

सीए वो व्यक्ति होता है जो किसी कंपनी , इंडस्ट्री या इंसान के वित्तीय खाते को मैनेज करे। आज के समय में हर व्यक्ति या कंपनी को सीए की ज़रूरत पड़ती ही है। सीए का प्रमुख कार्य होता है अपने क्लाइंट के वित्तीय कामों को संभालना जैसे टैक्स रिटन, बैलेंसशीट और GST खाते को तैयार करना । 

आजके टाइम में सभी चीज़ें डिजिटल होने की वजह से हर इंडस्ट्री या कंपनी को सीए की ज़रूरत पड़ती है। यह सीए की ज़िम्मेदारी होती है की वो अपने क्लाइंट का टैक्स समय पर जमा करवाए। साथ ही टैक्स रिटर्न भी उचित समय पर अप्लाई करे और कंपनी की बैलेंस शीट एवं GST अपडेटेड रखे। 

CA क्या है? कैसे करें पूरी जानकारी हिंदी में |

सीए कोर्स के लिए शैक्षिक योग्यता CA Course Eligibility in Hindi 

सीए का कोर्स करने के लिए विद्यार्थी को एक एन्ट्रन्स एग्जाम देना होता है। इस एग्जाम के लिए आप दसवीं पास करने के बाद ही अप्लाई कर सकते है। लेकिन आप इस एग्जाम में बारहवीं पास करने के बाद ही बैठ सकते है। 

कई बच्चों का यह भी सवाल रहता है की क्या कोई साइंस या आर्ट्स स्ट्रीम से बारहवीं पास करने वाला विद्यार्थी इस एग्जाम को दे सकता है या नहीं । इसका जवाब है “ हाँ ” कोई भी स्ट्रीम का बच्चा इसमें बैठ सकता है। साथ ही इस एग्जाम में बैठने के लिए आपको बारहवीं में किसी विशेष परसेंटेज की ज़रूरत नहीं है। आपका बस बारहवीं पास करना पर्याप्त है।  

Read also: NEFT Full Form kya hai ?

सीए का कोर्स कैसे करें?—CA ka Course Kaise Kare? 

सीए का एग्जाम भारत के सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है। इसलिए यह कहा जाता है की आप इसकी तैयारी दसवीं के बाद से ही शुरू कर दें। इसके लिए आपको दसवीं के बाद CPT एग्जाम के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ता है और बारहवीं पास करने के बाद आप इस परीक्षा में बैठ सकतें है। इसमें आपको बारहवीं कक्षा में 50% से ज्यादा अंक होने चाहिए। 

आप अगर साइंस या आर्ट्स स्ट्रीम से है तो भी आप इस परीक्षा में बैठ सकतें है। परन्तु अगर आप कॉमर्स स्ट्रीम से ही आते है तो आपके लिए यह परीक्षा औरों से थोड़ी आसान होगी क्यूंकि आपको बारहवीं के दौरान ही अनेकों चीज़ें पढ़ा दी जाती है। CPT परीक्षा साल में दो बार आयोजित कराई जाती है। एक बार जून में तो दूसरी बार दिसंबर में। आप दोनों ही परीक्षाओं में बैठ सकतें है। 

सीए प्रवेश परीक्षा CA Entrance Exam in Hindi 

CPT ( Foundation Course ) 

यह कोर्स सीए बनने का पहला चरण होता है। आपको बारहवीं कक्षा से ही इस कोर्स की तैयारी शुरू कर देनी चाहिए। इस दौरान ही आप इस कोर्स के लिए रजिस्ट्रेशन करवा सकतें है। यह रजिस्ट्रेशन 3 वर्षों तक मान्य रहता है। अगर आप इन तीन वर्षों में फाउंडेशन परीक्षा पास नहीं कर पाते है तो आपको दोबारा से रजिस्ट्रेशन करवाना होगा । इस कोर्स में रजिस्ट्रेशन करवाने के 4 महीने के अंदर परीक्षा आयोजित की जाती है। आपको इस कोर्स में रजिस्ट्रेशन के लिए 9800/- की फीस देनी होती है। 

CPT Exam Syllabus 

  • Paper 1: Practices and Principal of Accounting (100 Marks)  
  • Paper 2 (A): Business Mathematics (60 Marks)
  • Paper 2 (B): Statistics (40 Marks)
  • Paper 3 (A): Mercantile Law (60 Marks)
  • Paper 3 (B): General English (40 Marks)
  • Paper 4: Business Economics (60 Marks)
  • Paper 4 (B): Business and Commercial Knowledge) 40 Marks

IPCC Exam ( Second Level Exam ) 

फाउंडेशन कोर्स करने के बाद आपको दूसरे चरण के कोर्स के लिए रजिस्ट्रेशन करना होता है, जिसे Intermediate Course कहते है। इस कोर्स में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको 8 महीने की पढाई करनी होती है जिसके बाद आपकी IPCC परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इस परीक्षा को 2 भागों में बांटा गया है और इसमें कुल 8 पेपर होते है। इस कोर्स में रजिस्ट्रेशन के बाद आपको 4 हफ्ते की IT और सॉफ्ट स्किल कोर्स को पूरा करना होता है। 

सीए इंटरमीडिएट कोर्स में रजिस्ट्रेशन के लिए आपको 27200/- की फीस देनी होती है और आपका यह रजिस्ट्रेशन 4 वर्षों तक मान्य रहता है। इन चार वर्षों में आपको इस परीक्षा में पास होना होता है। 

IPCC Exam Syllabus 

Group I 

  • Paper 1: Accounting (100 Marks)
  • Paper 2: Corporate Laws & Other Laws (100 Marks)
  • Part I: Company Law (60 Marks)
  • Part II: Other Laws (40 Marks)Paper 3: Cost and Management Accounting (100 Marks)
  • Paper-4: Taxation (100 Marks)
  • Section A: Income-Tax Law (60 Marks)
  • Section B: Indirect Taxes (40 Marks)

Group II 

  • Paper 5: Advanced Accounting (100 Marks)
  • Paper 6: Auditing and Assurance (100 Marks)
  • Paper 7: Enterprise Information Systems & Strategic Management (100 Marks)
  • Section A: Enterprise Information Systems (50 Marks)
  • Section B: Strategic Management (50 Marks)
  • Paper 8: Financial Management & Economics for Finance (100 Marks)
  • Section A: Financial Management (60 Marks)
  • Section B: Economics for Finance (40 Marks)

सीए कोर्स के लिए अंतिम परीक्षा (Final Exam for CA Course) 

इंटरमीडिएट परीक्षा पास करने के बाद विद्यार्थियों को फाइनल कोर्स के लिए रजिस्ट्रेशन करना होता है। इसमें उन्हें 3 वर्षों की ट्रेनिंग कराई जाती है जिसे Articleship कहा जाता है। इस ट्रेनिंग के साथ ही विद्यार्थियों को 4 सप्ताह की IT और सॉफ्ट स्किल कोर्स भी करनी होती है। इस कोर्स में रजिस्ट्रेशन करवाने के 4 महीने के अंदर इसकी परीक्षा आयोजित कराई जाती है जिसे हम फाइनल परीक्षा कहते है। 

फाइनल कोर्स में रजिस्ट्रेशन के लिए परिक्षर्तियों को 32200/- की फीस देनी होती है और यह रजिस्ट्रेशन 5 वर्षों तक मान्य होता है। 

Final Exam Syllabus 

  • Paper—1: Financial Reporting
  • Paper—2: Strategic Financial Management
  • Paper—3: Advanced Auditing and Professional Ethics
  • Paper—4: Corporate and Allied Laws
  • Paper—5: Advanced Management Accounting
  • Paper—6: Information Systems Control and Audit
  • Paper—7: Direct Tax Laws
  • Paper—8: Indirect Tax Laws

फाइनल परीक्षा पास करने के बाद आपको ICAI में रजिस्ट्रेशन करवाना होता है। इस रजिस्ट्रेशन के बाद ही आपको CA की डिग्री और सर्टिफिकेट मिलती है। 

भारत में CA का वेतन—CA Salary in India 

शुरूआती दौर में भारत में एक CA को 50,000/- से लेकर 70,000/- तक की वेतन मिल सकती है। मगर जैसे-जैसे आपका इस क्षेत्र में अनुभव बढ़ेगा , आपको 5,00,000/- से लेकर 6,00,000/- प्रति माह तक की सैलरी भी मिल सकती है। 

Conclusion 

इस आर्टिकल में मैंने आपको चार्ट्रेड अकाउंटेंट से जुड़े लगभग हर सवाल का जवाब देने की कोशिश की है। CA Full Form in Hindi से लेकर इसके परीक्षा और सिलेबस को भी विस्तार से आपके सामने रखने की कोशिश की। 

उम्मीद है की आपको चार्टर्ड अकाउंटेंट(CA) से जुड़े हर सवाल का जवाब मिल गया होगा । अगर आपके मन में फिर भी कोई सवाल है तो आप कमेंट में  पूछ सकतें है। 

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap